दिल्ली में होगा सिर्फ दिल्लीवालों का इलाज केजरीवाल के इस फैसले पर विपक्ष ने कहा ये दोहरा चरित्र है

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। 

देश की राजधानी में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का ये फैसला दिल्ली में दूसरे शहरों से बसे लोगों का भरोसा एक दम से तोड़ दिया है।

दरअसल केजरीवाल ने आज हुए प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा है कि दिल्ली के अस्पतालों में केवल दिल्लीवालों का इलाज होगा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के अस्पताल सभी के लिए खुले रहेंगे। उत्तर प्रदेश के तमाम मरीज दिल्ली में इलाज कराने जाते हैं। इस फैसले के बाद यूपी पर खासा असर पड़ेगा।

90 फीसद लोग बोले दिल्ली में दिल्लीवासियों का हो इलाज

केजरीवाल ने बताया कि उनकी सरकार ने पिछले हफ्ते दिल्ली के लोगों की राय मांगी थी। उनमें से 90 फीसदी लोगों का कहना है कि दिल्ली के अस्पताल कोरोना के रहने तक दिल्ली के लोगों के लिए होने चाहिए।

सरकार ने इस पर 5 विशेषज्ञों की कमेटी बनाई थी। उसने भी अपनी रिपोर्ट में कहा है कि दिल्ली में जून के अंत तक 15 हजार बेड की जरूरत होगी। ऐसे में यहां के अस्पतालों को बाकी लोगों के लिए खोल दिया तो रिजर्व किए गए 9 हजार बेड 3 दिन में भर जाएंगे।

सीएम केजरीवाल ने कहा कि केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार दोनों के अस्पतालों में 10-10 हजार बेड हैं। प्राइवेट अस्पताल भी अब सिर्फ दिल्ली के लोगों का इलाज करेंगे। इससे कुछ खास तरह के ट्रीटमेंट वाले अस्पतालों को छूट मिलेगी।

कपिल मिश्रा समेत पूरा विपक्ष आगबबूला

केजरीवाल के इस बयान के बाद विपक्ष के बयानों की बाढ़ सी आ गई। वहीं, नवभारत टाइम्स के अनुसार, बीजेपी प्रवक्ता हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव ने कहा कि दिल्ली सरकार का फैसला असंवैधानिक है क्योंकि यह नागरिकों के मूल अधिकारों का हनन करना है।

ऐसे में सरकार का ये फैसला पूरी तरह से अमानवीय है। उन्होंने कहा कि भारत में तो दूसरे देश के लोग भी इलाज कराने आते हैं। यहां पाकिस्तानी लोगों का इलाज भी डॉक्टर वैसे ही करते हैं जैसे कि हिंदुस्तानियों का होता है।

विपक्ष ने कहा सीएम ने दिखाया अपना दोहरा चरित्र

वहीं जेडीयू प्रवक्ता निखिल मंडल ने कहा कि जिस बिहार-यूपी के लोगों के दम पर अरविंद केजरीवाल मुख्यमंत्री बने, आज उन्हीं बिहार-यूपी के लोगों को केजरीवाल की सरकार भगा रही है। चुनाव के वक्त तो केजरीवाल ने बिहार और यूपी के लोगों को कहा था आईए-आईए, अब जब कोरोना की वजह से लोग तकलीफ में हैं तो कह रहे हैं जाइए-जाइए। दिल्ली के मुख्यमंत्री का यह फैसला उनके दोहरे चरित्र को उजागर करता है।

इसी क्रम में बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने ट्वीट करते हुए केजरीवाल सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि अब केजरीवाल सबके कागज चेक करेंगे। 

admin