ओपनर फिर फ्लॉप

हैमिल्टन

पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल की सलामी जोड़ी वनडे की असफलता को पीछे नहीं छोड़ सकी, शॉ खाता भी नहीं खोल सके जबकि मयंक एक रन बनाकर आउट हो गए

न्यूजीलैंड के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज से पहले यहां सेडन पार्क में तीन दिवसीय अभ्यास मैच खेल रही भारतीय टीम पहले दिन शुक्रवार को ही 263 रनों पर ढेर हो गई। यह स्कोर भी टीम को हनुमा विहारी और चेतेश्वर पुजारा की मदद से मिला। यही दो बल्लेबाज थे जो न्यूजीलैंड एकादश के गेंदबाजों के सामने अच्छा स्कोर कर सके। विहारी ने 182 गेंदों पर 10 चौके और तीन छक्कों की मदद से 101 रन बनाए। वहीं पुजारा सात रनों से शतक से चूक गए। उन्होंने 211 गेंदों पर 93 रनों की पारी खेली जिसमें 11 चौके और एक छक्का शामिल रहा। इन दोनों के अलावा अगर कोई बल्लेबाज दहाई के आंकड़े तक पहुंच सका तो वह हैं अजिंक्य रहाणे, जिन्होंने 18 रन बनाए।

विहारी, पुजारा और रहाणे के अलावा कोई और नहीं छु सका दहाई का आकड़ा

पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल की सलामी जोड़ी वनडे की असफलता को पीछे नहीं छोड़ सकी। शॉ खाता भी नहीं खोल सके जबकि मयंक एक रन बनाकर आउट हो गए। सलामी बल्लेबाज की रेस में शामिल शुभमन गिल भी प्रभावित नहीं कर सके। वह भी अपना खाता नहीं खोल सके। 38 रनों के कुल स्कोर पर भारत ने अपने चार विकेट खो दिए थे। यहां से विहारी और पुजारा ने टीम को संभालते हुए बेहतरीन साझेदारी की। दोनों ने 195 रनों की साझेदारी की। पुजारा को जैक गिब्सन 233 के कुल स्कोर पर आउट किया जबकि विहारी रिटायर्ड हो गए। रिद्धिमान साहा और रविचन्द्रन अश्विन खाता तक नहीं खोल सके। रवींद्र जडेजा ने आठ रन बनाए। उमेश यादव नौ रन ही बना सके। वहीं न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में मयंक अग्रवाल के साथ टीम इंडिया के लिए ओपनिंग की जिम्मेदारी कौन निभाएगा ये सबके लिए बड़ा सवाल है। रोहित शर्मा चोटिल होने की वजह से टेस्ट सीरीज से भी बाहर हैं, ऐसे में टेस्ट में मयंक के ओपनिंग पार्टनर कौन होंगे इस पर सबकी निगाहें टिकी हुई है। टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री ने साफ कर दिया है कि मयंक के साथ पृथ्वी शॉ या फिर शुभमन गिल दोनों में से कोई एक ये जिम्मेदारी निभाएगें।

इतनी बाउंसिंग विकेट कहीं और नहीं : विहारी

न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट से पहले खेले जा रहे प्रैक्टिस मैच में मध्यक्रम बल्लेबाज हनुमा विहारी ने शानदार शतक लगाया। शतक लगाने के बाद उन्होंने कहा कि पिच पर बाउंस बहुत अच्छी थी। मुझे लगता है कि आज तक मैंने जहां भी क्रिकेट खेली है उनमें सबसे ज्यादा बाउंसिंग विकेट यहां पर मिली हैं। अपनी शतकीय पारी पर हनुमा ने कहा- मैं यहां पहले भी खेल चुका हूं। यहां पर टिकने के लिए आपको समय देना होता है। एक बार जब आप टिक जाते हो तो अच्छा स्कोर बना लेते हो।

1 महीने बाद बल्लेबाजी करने उतरे पंत 7 रन बनाकर आउट

भारतीय क्रिकेट टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज रिषभ पंत लगातार टीम से बाहर बैठे हैं। 14 जनवरी को पंत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अंतिम वनडे मैच खेला था। तब से अब तक वो प्लेइंग इलेवन से बाहर चल रहे हैं। पंत पूरे 1 महीने बात वो भारतीय टीम की तरफ से बल्लेबाजी करने उतरे। पंत यहां 10 गेंद खेले के बाद महज 7 रन बनाकर वापस लौट गए।

admin