कोरोना को दी मात, देशभर में लागू होगा भीलवाड़ा मॉडल!

भीलवाड़ा

अच्छी खबर… स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने भीलवाड़ा में हुए काम की तारीफ के साथ ही इसे पूरे देश में लागू करने के दिए संकेत

राजस्थान का भीलवाड़ा जिला पिछले महीने कोरोना वायरस संक्रमण का हॉटस्पॉट बनकर उभरा था। यहां के एक निजी अस्पताल में डॉक्टर के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उस अस्पताल के कई स्वास्थ्यकर्मी भी पॉजिटिव हो गए थे लेकिन समय रहते सरकार ने इसे काबू में कर लिया। भीलवाड़ा में कोरोना के आंकड़ों को 27 पर ही रोक दिया गया।

16 हजार स्वास्थ्य कर्मियों की टीम को एक साथ भीलवाड़ा भेजा गया गया। स्वास्थ्य कर्मियों ने घर-घर जाकर स्क्रीनिंग शुरू कर दी। इस दौरान करीब 18 हजार लोगों में सर्दी-जुकाम के लक्षण पाए गए। कोरोना संक्रमण के बाद देश में पहली बार भीलवाड़ा में इस तरह का काम शुरू किया गया और ये कारगर साबित हुआ। भीलवाड़ा में सरकार ने समय रहते तो जरूरी कदम उठाए हैं, वह सराहनीय है। अब भीलवाड़ा मॉडल को देशभर में लागू करने की बात कही जा रही है। कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने प्रदेश के मुख्य सचिव के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए भीलवाड़ा में किए गए उपायों की तारीफ करते हुए इस मॉडल को देशभर में लागू करने के संकेत दिए।

अब तक 27 कोरोना मरीज 2 दिन से लगी लगाम

भीलवाड़ा में अब तक 27 कोरोरा पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इनमें से 17 की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है और 11 को कोरोना से मुक्ति के बाद घर भेज दिया गया है। अब तक 2437 रोगियों के नमूने भेज गए हैं जिनमें 2287 नेगेटिव आए हैं। 27 पॉजिटिव मिले हैं जबकि 68 की रिपोर्ट आनी अभी बाकी है।

भीलवाड़ा ने ऐसे पाया ग्लोबल महामारी पर काबू

1.कोरोना मरीज मिलने के बाद तत्काल कर्फ्यू लगा दिया गया।
2.पहले ही दिन से 50 चेकपोस्ट बनाते हुए पूरी जिले की सीमाएं सील कर दी गई।
3.रोडवेज बसों का संचालन पूरी तरह बंद किया गया। प्राइवेट गाड़ियां भी रोक दी गई।
4.कोरोना मरीज वाले इलाकों में आवाजाही पूरी तरह से बंद की गई।
5.स्क्रीनिंग के लिए 2100 टीमें बनाई गईं। अब तक 25 लाख लोगों की स्क्रीनिंग पूरी की। इसमें 16382 लोग चिंहित किए गए।
6.सर्वे पूरा होते ही दूसरी बार सर्वे शुरू किया गया। इसमें 1215 लोग सर्दी-जुकाम से ग्रसित मिले।
7.पहले मरीज यानी बांगड़ अस्पताल के डॉक्टर और ओपीडी में आने वालों की सूची तैयार कर उनके घर पहरा लगाया गया।
8.मरीजों के संपर्क में आने वालें 6000 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया। होटलों में उनके ठहरने की व्यवस्था की गई।
9.कर्फ्यू के दौरान राशन, फल, सब्जी की होम डिलीवरी की व्यवस्था की गई।

1215 घरों पर बैठाया पहरा, संक्रमण फैलने से रोका

भीलवाड़ा में पहला कोरोना पॉजिटव मरीज मिलने के बाद से कर्फ्यू लगा हुआ है। अब तक 28 लाख लोगों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। पहले सर्वे में 16 हजार 382 लोगों की पहचान की गई। जबकि दूसरे सर्वे में यहां 1 हजार 215 लोगों को चिन्हित किया गया है। इन सबके घरों पर सरकार कर्मचारियों के जरिए पहरा लगाया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा, पूरे देश में हो रही सराहना

मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत ने भीलवाड़ा में कोरोना वायरस पर प्रभावित नियंत्रण को लेकर कहा है कि राज्य सरकार ने सही समय पर सही फैसले लिए हैं। पूरे देश में राजस्थान सरकार के इन कदमों की सराहना की जा रही है। कोविड-19 का कम्यूनिटी ट्रांसमिशन रोकने के लिए राज्य सरकार की ओर से किए गए उपायों की सराहना केन्द्र सरकार ने भी की है।

admin