एसडीपीआई के लोगों ने रची थी बड़ी साजिश

बेंगलुरु

संघ कार्यकर्ता की हत्या का मामला

कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में आरएसएस के कार्यकर्ता की हत्या के मामले में छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बताया है कि गिरफ्तार सभी लोग सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) के सदस्य हैं। आरएसएस कार्यकर्ता वरुण बोपाला (34) नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में आयोजित रैली में शामिल हुए थे।

22 दिसंबर को टाउन हॉल में आयोजित इस रैली से निकलने के बाद वरुण के ऊपर कई बार हमले किए गए, जिसमें वह बाल-बाल बच गए। उधर, एसडीपीआई ने इस बात का खंडन किया है कि पकड़े गए लोग उसके संगठन के सदस्य थे। इस बीच बेंगलुरु के पुलिस कमिश्नर भास्कर राव ने दावा किया है कि अरेस्ट किए गए 6 लोगों ने बड़ी साजिश रची थी। ये लोग सीएए के समर्थन में आयोजित रैली में अव्यवस्था फैलाना चाहते थे और उनके निशाने पर प्रमुख हिंदू नेता थे। वे संभवत: इसलिए पीछे हट गए, क्योंकि आयोजन स्थल पर भारी पुलिस बल तैनात था। इसके बाद उन्होंने बोपाला पर हमले का फैसला किया। आरोपियों ने देखा कि बोपाला भगवा शर्ट पहनकर कार्यक्रम से अकेले निकल रहे हैं।

राव ने यह नहीं बताया कि गिरफ्तार लोगों के निशाने पर कौन-कौन हाई प्रोफाइल लोग थे। हालांकि कार्यक्रम के दौरान बेंगलुरु साउथ के सांसद तेजस्‍वी सूर्या और युवा ब्रिगेड के संस्थापक चक्रवर्ती सुलीबेले मौजूद थे। जिन 6 लोगों को अरेस्ट किया गया है, उनकी पहचान मोहम्मद इरफान, सैयद अकबर, सैयद सिद्दिक अकबर, अकबर बाशा, सनउल्ला शरीफ और सादिक उल अमीन के रूप में हुई है। गिरफ्तार किए गए लोग 27 से 46 साल के बीच के हैं। इस बीच एसडीपीआई ने कहा है कि अरेस्ट किए गए लोगों का संबंध उससे नहीं है।

admin