16 घंटे पूछताछ और विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद पुलिस ने पत्नी और बच्चे को छोड़ा

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। 

आठ पुलिसवालों की हत्या का आरोपी दुर्दांत अपराधी विकास दुबे एनकाउंटर में मारा गया। इधर, विकास दुबे के एनकाउंटर की खबर आने के बाद लखनऊ पुलिस ने गैंगस्‍टर विकास दुबे  की पत्नी ऋचा और नाबालिग बेटे को छोड़ दिया है।

विकास दुबे की पत्नी और बेटे की पुलिस ने गुरुवार को हिरासत में लिया था। विकास के एनकाउंटर के बाद दोनों को पुलिस ने छोड़ दिया है।

वारदात में ऋचा की कोई भूमिका नहीं मिली है

पुलिस अधिकारी दिनेश कुमार पी ने कहा इस दुस्साहसिक वारदात में ऋचा की कोई भूमिका नहीं मिली है। वारदात के वक्त वह मौके पर नहीं थी।

इससे पहले गुरुवार को लखनऊ के कृष्णानगर में विकास दुबे की पत्नी ऋचा दुबे ने बेटे के साथ आत्मसमर्पण कर दिया था। हालांकि, नौकर महेश को अभी नहीं छोड़ा गया है।उससे पूछताछ जारी है।

मध्य प्रदेश के उज्जैन से कानपुर लाए जा रहे विकास दुबे को आज पुलिस मुठभेड़ में मार गिराया गया है। पुलिस का कहना है कि वह भागने की कोशिश कर रहा था और पुलिसकर्मियों पर फायरिंग भी की।

हमें खुद मीडिया के जरिए घटना के बारे में पता चला

कानपुर के एसएसपी दिनेश कुमार पी ने बताया, “विकास की पत्नी रिचा दुबे और उसके बेटे को पुलिस ने गुरुवार को हिरासत में लिया था। उनसे पुलिस लाइन में पूछताछ की गई। कई घंटों तक हुई पूछताछ के बाद दोनों की विकास के अपराधों में कोई संलिप्तता न होने से उन्हें छोड़ दिया गया।”

कृष्णानगर पुलिस ने रिचा के साथ पूछताछ के दौरान पाया है कि घटना के दिन वह और उसका बेटा बिकरू गांव या कानपुर में नहीं थे। उन्हें इस पूरी घटना के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। उन्हें खुद मीडिया के जरिए घटना के बारे में पता चला।

गांव के घरों में अभी भी खामोशी छाई है

विकास दुबे के मारे जाने के बाद घटनास्थल पर पुलिस-प्रशासन जिंदाबाद के खूब नारे लगे। हजारों लोगों की भीड़ मौके पर यह देखने के लिए पहुंच गई थी कि वो जगह कौन सी है जहां विकास मारा गया। लोग यह जानने की भी कोशिश करते रहे कि मुठभेड़ किस तरह हुई।

वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने भी उनकी उत्सुकता को दूर किया। बाद में लोगों ने कहा-अब जाकर बढ़िया काम किया है पुलिस ने। ऐसे अपराधी का जिंदा रहना प्रदेश के लिए खतरनाक था।

मुठभेड़ में विकास के मारे जाने के बाद बिकरू गांव में भले ही हलचल बढ़ गई है मगर गांव के घरों में अभी भी खामोशी छाई है। लोगों को इस बात की आशंका है कि सर्च ऑपरेशन में किसी का भी घर टूट सकता है।

admin