सोशल डिस्टेंसिंग सिखाने गई पुलिस को लोगों ने मारे पत्थर, गोली भी चली

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

बिहार के मधुबनी जिले के झंझारपुर अनुमंडल के अंधराठाढ़ी प्रखंड के गीदड़गंज गांव की मस्जिद में मंगलवार शाम सोशल डिस्टेंसिंग का पाठ पढ़ाने गई पुलिस और प्रशासन की टीम पर लोगों ने हमला कर दिया। हमलावरों ने बवाल करते पथराव शुरू कर दिया जिससे अंचल अधिकारी सहित अन्य कर्मी जख्मी हो गए।

मयंक बड़बरे जो दरभंगा के प्रमंडलीय आयुक्त हैं ने कहा, “ऐसा माना जा रहा है कि गिदरगंज से कोई निजामुद्दीन नहीं गया था इसलिए कोरोना के संक्रमण की फिलहाल कोई आशंका नहीं है। पथराव में बीडीओ, सीओ व थाना प्रभारी को चोटें आयी हैं।”

जानकारी के अनुसार, लॉकडाउन के बावजूद मधुबनी जिले के झंझारपुर अनुमंडल के अंधराठाढ़ी प्रखंड के गीदड़गंज गांव की मस्जिद में भीड़ मौजूद थी। मस्जिद में जमात में काफी लोग पहुंचे थे, जिनमें विदेश यात्रा से लौटे लोग भी शामिल थे। इसकी सूचना मिलने के बाद पुलिस और प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची थी। अधिकारियों ने वहां मौजूद लोगों से कोरोना वायरस से बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिंग बनाने को कहा। लेकिन लोगों ने अधिकारियों को चेतावनी को अनसुना कर दिया। लिहाजा पुलिस ने सख्ती दिखाई, जिससे लोग भड़क उठे।

इस पर वहां मौजूद लोगों की जवानों से बहस हो गई। देखते ही आसपास की सभी छतों से पुलिस पर पथराव शुरू हो गया। इसी बीच भीड़ में मौजूद किसी ने दो राउंड फायर भी कर दी। सूत्रों के मुताबिक फायरिंग करने वाला पुराना हिस्ट्रीशीटर और पूर्व मुखिया का खास है। वहीं जिस तरह से पथराव किए जा रहे थे उससे लग रहा था कि यह पूर्व नियोजित है। छतों पर बड़े-बड़े पत्थर रखे थे।

एसपी डॉ. सत्य प्रकाश ने कहा, “लॉकडाउन के कारण किसी भी तरह के सामूहिक आयोजन पर रोक है। अंधराठाढ़ी में इसके उल्लंघन की सूचना पर पुलिस टीम वहां पहुंची। आयोजन से करने से मना किया। उपद्रवियों ने टीम पर हमला कर दिया। फिलहाल पुलिस वहां से लाैट आई है। उपद्रवियों की पहचान कर प्राथमिकी दर्ज की जा रही है। सभी दोषियों पर कार्रवाई होगी।”

पुलिस ने अज्ञात हमलावरों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस अब भी घटनास्थल पर नहीं पहुंच पाई है। हालांकि, कई थानों की पुलिस अंधराठाढ़ी थाना पहुंच गई है। डीएसपी झंझारपुर अमित शरण भी थाना पहुंच पदाधिकारियों से घटना की जानकारी ले रहे हैं।

admin