प्रयागराज: मौनी अमावस्या पर्व पर 30 लाख श्रद्धालुओं ने लगायी आस्था की डुबकी

प्रयागराज। माघ मास के मौनी अमावस्या को हिन्दू धर्म में बेहद खास माना जाता है। जिला प्रशासन के अनुसार सायं छह बजे तक कुल तीस लाख श्रद्धालुओं ने डुबकी लगायी। इस दौरान वायुयान से श्रद्धालुओं पर पुष्पवर्षा कर उनका स्वागत भी किया गया। मान्यता है कि इस दिन स्नान और दान से शुभ फलों की प्राप्ति होती है।

इस अवसर पर किन्नर अखाड़ा के संत-महात्माओं ने भी गंगा के हरिश्चन्द्र मार्ग स्थित स्नान घाट पर स्नान किया। स्नान के बाद  मां गंगा, तीर्थराज प्रयाग और भगवान वेणीमाधव से विश्व कल्याण, कोरोना का खात्मा और लोगों के उन्नति की कामना की। स्नान करने वालों में किन्नर अखाड़ा की प्रदेश अध्यक्ष महामण्डलेश्वर स्वामी कौशल्या नंद गिरि, महामण्डलेश्वर कल्याणी नंद गिरि एवं पवित्रा सहित बड़ी संख्या में शिष्यों ने स्नान किया। किन्नर अखाडा की प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि माघ मेले में किन्नर अखाड़ा का शिविर माघी पूर्णिमा तक रहेगा। इस दौरान हवन-पूजन, सांस्कृतिक कार्यक्रम और अन्नक्षेत्र चलता रहेगा।

ज्योतिषियों के अनुसार मौनी अमावस्या का पर्व गुरुवार को 01ः10 से आरम्भ हुआ और 12 फरवरी को 00ः37 पर समाप्त होगा। इसलिए अभी श्रद्धालुओं का आना जारी है। श्रद्धालु स्नान एवं पूजा-अर्चना से निवृत्त होकर मठों, मेला क्षेत्र एवं नगरों में विभिन्न संस्थाओं के भंडारे में पहुंच कर प्रसाद ग्रहण किये और रवाना हुए। इस दौरान सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त रहे, सीसीटीवी से हर कोने पर नजर रही, जिससे कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन देवतागण पवित्र संगम में निवास करते हैं। इसलिए इस दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व होता है। शास्त्रों के अनुसार, इस दिन मौन रहने वाले व्यक्ति को मुनि पद की प्राप्ति होती है। आज के दिन मौन रहने का विशेष महत्व होता है। कहते हैं कि ऐसा करने से देवी-देवता प्रसन्न होते हैं।

मौनी अमावस्या के स्नान पर्व पर गुरुवार को माघ मेला में जिला अपराध निरोधक समिति के लगभग 1,150 स्वयंसेवकों ने पुलिस प्रशासन का सहयोग करते हुए स्नान पर्व को सकुशल सम्पन्न कराया। स्वयंसेवकों के मार्गदर्शन के लिए समिति के कैंप कार्यालय परेड ग्राउंड पर सचिव संतोष श्रीवास्तव, संगठन सचिव सतीश चंद्र मिश्र यातायात प्रभारी कुलदीप धर, भावना त्रिपाठी, वीके श्रीवास्तव, मनोज कुशवाहा, राम कैलाश यादव, लक्ष्मी कान्त मिश्र आदि ने मरीजों को फ्री चेकअप कर मुफ्त में दवा वितरित किया एवं संस्था द्वारा प्रसाद वितरण में अपना योगदान दिया। एजेंसी/हिस

admin