उत्तर प्रदेश के लखनऊ में विश्व हिन्दू महासभा के अध्यक्ष को मारी गई गोली

देश के लोगों ने पिछले कुछ समय से काफी उतार चढ़ाव देखा है, कहीं विरोध तो कहीं समर्थन, कहीं वाद तो कहीं प्रतिवाद। लेकिन सारे उतार चढ़ावों के के बीच कुछ भी थमने का नाम नहीं ले रहा है, सब कुछ पूरी रफ्तार से आगे बढ़ रहा है। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के हज़रतगंज क्षेत्र में विश्व हिन्दू महासभा के अध्यक्ष रणजीत बच्चन की गोली मार कर हत्या कर दी गई।

मॉर्निंग वॉक के दौरान हुआ हादसा
इस घटना के बाद लखनऊ समेत उत्तर प्रदेश एक कई शहरों में दहशत का माहौल है। रणजीत हर रोज़ सुबह टहलने के लिए निकलते हैं। रोज़ की तरह वह सुबह अपने मित्र आदित्य कुमार श्रीवास्तव के साथ टहलने ही निकले थे तभी उनके बाएँ हाथ में गोली। रणजीत बच्चन लखनऊ के उस इलाके की ओसीआर बिल्डिंग में रहते थे। रविवार सुबह वह आदित्य के साथ मॉर्निंग वॉक के लिए निकले थे।
जहां सीडीआरआई के पास बदमाशों ने उनकी गोली मारकर हत्या कर दी। रणजीत मूल रूप से गोरखपुर के रहने वाले हैं। वह समाजवादी पार्टी से भी जुड़े रहे हैं। बदमाशों ने रणजीत के सिर में गोली मारी जिससे मौके पर ही उनकी मौत हो गई। वारदात के बाद बदमाश मौके से फरार हो गए। घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

हिन्दू नेताओं को बनाया जा रहा निशाना
घटना की जानकारी मिलने पर पर अखिल भारतीय हिंदू महासभा के प्रदेश अध्यक्ष राजीव कुमार आशीष घटना स्थल पर पहुंचे। साथ ही उन्होंने कहा कि रणजीत बच्चन लंबे समय तक उनके संगठन में कार्यकारी अध्यक्ष रहे हैं। वर्तमान में विश्व हिन्दू महासभा के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष थे। उन्होंने कहा कि आज रणजीत की हत्या कर दी गई।
इससे पहले कमलेश तिवारी की हत्या की गई थी। उनके मुताबिक हिंदू नेता लगातार निशाने पर हैं। हमारी जान को खतरा है। उन्होंने सरकार से हिंदू नेताओं की सुरक्षा की मांग की है। उन्होंने हत्यारों को जल्द गिरफ्तार करने की मांग की। लगातार हो रही हत्याएं पुलिस पर भी सवाल खड़े करती है।

विवाद होने पर बनाया था खुद का संगठन
विश्व हिंदू महासभा रणजीत बच्चन का खुद का संगठन था। वह लंबे समय तक अखिल भारतीय हिंदू महासभा में रहे पर विवाद हो जाने पर अलग हो गए और खुद का संगठन बना लिया। रणजीत बच्चन की दो पत्नियां हैं। पहली से तीन साल का एक बच्चा है जो कि गोरखपुर में रहती है जबकि दूसरी के साथ वह हजरतगंज में रहते थे। कल शनिवार को उनका जन्मदिन था जो उन्होंने पास के एक मंदिर में मनाया था।
रणजीत की साली ने 2017 में उन पर दुष्कर्म का मुकदमा भी दर्ज करवाया था। रणजीत हत्याकांड पर समाजवादी पार्टी ने कानून व्यवस्था को लेकर योगी सरकार पर गंभीर सवाल उठाए। सपा के ट्वीटर अकाउंट से लिखा गया है कि दिनदहाड़े हत्याकांड से आम जनमानस में दहशत है। उत्तर प्रदेश में पुलिस से भरोसा खत्म हो गया है। निकम्मी सरकार को तत्काल इस्तीफा दे देना चाहिए।

admin