प्रधानमंत्री मोदी ने ग्रामीण से पूछा- मकान के लिए कोई लेनदेन तो नहीं हुआ?

प्रजातंत्र ब्यूरो | भोपाल

प्रदेश के 1.75 लाख परिवारों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मिले घर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘गृह प्रवेशम्’ का शुभारंभ कर शनिवार को मध्यप्रदेश के 1.75 लाख हितग्राहियों को प्रधानमंत्री आवास योजना में घर उपलब्ध करवाया। ऑनलाइन गृह प्रवेश कार्यक्रम के जरिये मध्यप्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना के शानदार क्रियान्वयन का साक्षी पूरा देश बना। प्रधानमंत्री ने सिंगरौली के एक ग्रामीण से पूछा कि प्रधानमंत्री आवास लेने में कोई लेन-देन तो नहीं हुआ। उन्होंने धार जिले के एक आदिवासी से स्थानीय बोली में भी बातचीत की। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी ऑनलाइन कार्यक्रम से जुड़े। यह घर राज्य के 12 हजार गांवों में तैयार किए गए हैं।

प्रधानमंत्री ने इस दौरान पीएम आवास के हितग्राहियों से संवाद भी किया। उन्होंने धार जिले के सरदारपुर गांव के हितग्राही गुलाब सिंह, सिंगरौली जिले के हितग्राही प्यारेलाल यादव, ग्वालियर जिले के हितग्राही नरेंद्र नामदेव से बातचीत कर योजना के संबंध में जानकारी ली। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बार आप सभी की दीवाली, आप सभी के त्योहारों की खुशियां कुछ और ही होंगी। कोरोना काल नहीं होता तो आज आपके जीवन की इतनी बड़ी खुशी में मैं भी शामिल होता।

हलमा पद्धति से बने घर को सराहा

पीएम ने धार जिले के अमझेरा में आदिवासी गुलाब सिंह और उनके बेटे से हलमा पद्धति की जानकारी ली। उन्होंने पीएम को बताया कि इस पद्धति से समाज और परिवार के लोगों ने घर बनाने के लिए मदद की, इसमें मजदूरी के पैसे नहीं देने होते हैं। बस मकान बनवाने में मदद करने वालों को सिर्फ खाना खिलाया जाता है। इस पर प्रधानमंत्री ने पूछा कि क्या यह परंपरा दूसरे गांवों में भी है। पीएम ने उनकी तारीफ की।

 

admin