पंजाब के डीजीपी ने कहा करतारपुर कॉरिडोर किसी को भी प्रशिक्षित आतकंवादी बना सकता है

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। एक बयान आया है जिसमें पंजाब पुलिस के प्रमुख बता रहे हैं कि कैसे करतारपुर कॉरिडोर को आतंकवादियों का अड्डा बनाने की कोशिश की जा रही है।

करतारपुर कॉरिडोर को खोलने के लिए सहमत होने के पाकिस्तान के इरादे पर सवाल उठाते हुए दिनकर गुप्ता ने बताया कि अगर करतारपुर कॉरिडोर इतने वर्षों से नहीं खोला गया था तो उसकी ठोस वजहें थीं। उन्होंने दावा किया कि पाकिस्तान में बसे कुछ असामाजिक तत्व श्रद्धालुओं को लुभाने की कोशिश कर रहे हैं।

पंजाब के पुलिस प्रमुख दिनकर गुप्ता ने अपनी बात स्पष्ट करते हुए इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “अगर आप सुबह किसी सामान्य व्यक्ति को करतारपुर भेजते हैं तो ऐसा मुमकिन है कि शाम को वो प्रशिक्षित आतंकवादी बनकर वापस लौटे। करतारपुर कॉरिडोर किसी को भी प्रशिक्षित आतकंवादी बना सकता है। आप वहां छह घंटे तक रहते हैं। इतने वक़्त में आपको किसी फ़ायरिंग रेंज में ले जाया जा सकता है, आपको आईडी बनाना सिखाया जा सकता है।”

करतारपुर कॉरिडोर पाकिस्तानी पंजाब के करतारपुर में दरबार साहिब को भारतीय पंजाब के गुरदासपुर ज़िले के डेरा बाबा नानक गुरुद्वारा से जोड़ता है। भारतीय श्रद्धालु बिना वीज़ा के सरहद के उस पार जाकर दरबार साहिब गुरुद्वारा जा सकते हैं। इसके लिए उन्हें केवल एक परमिट लेना होता है। इसे पिछले साल नौ नवंबर को खोला गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय पक्ष पर पड़ने वाले हिस्से का उद्घाटन किया, जबकि उनके समकक्ष इमरान खान ने पाकिस्तानी हिस्से का उद्घाटन किया था।

डीजीपी ने आगे कहा, “यह एक बहुत बड़ी चिंता है। यही वजह है कि इसे इतने वर्षों तक नहीं खोला गया। मैं आठ साल से इंटेलिजेंस ब्यूरो में था मैं इसे संभालता था। भावना यह थी कि इसकी (कॉरिडोर) सुरक्षा एक बड़ी चुनौती होगी लेकिन ऐसा हुआ नहीं। जैसा कि समुदाय चाहता था वैसा ही हुआ। सारे सुरक्षा इंतज़ामों को ताक पर रख दिया गया।”

admin