5 दिन में 32 दिन के बराबर सैंपलिंग, 93.43% नेगेटिव

विनोद शर्मा | इंदौर

इंदौर में ज्यादा सैंपलिंग से पॉजिटिव के नंबर बढ़े, पर इसमें नेगेटिव ज्यादा

सैंपल्स की संख्या के साथ बढ़े संक्रमितों के आंकड़ों से घबराए इंदौर के लिए राहत भरी खबर यह है कि बुधवार को डिस्चार्ज हुए 90 मरीजों के साथ इंदौर का रेट ऑफ रिकवरी बढ़कर 50 प्रतिशत से अधिक हो गया है। मरीज भी ज्यादा सैंपलिंग के कारण बढ़े हैं। आंकड़ों के लिहाज से बात करें तो पांच दिन (8-12 मई) में 5778 सैंपल्स की जांच में 380 संक्रमित मिले हैं जबकि 25 मार्च से 25 अप्रैल के दौरान करीब इतने ही सैंपल की जांच में 1012 संक्रमित सामने आए थे।

जो 90 मरीज डिस्चार्ज हुए हैं उनमें सबसे ज्यादा 44 अरबिंदों हॉस्पिटल से, 36 इंडेक्स हॉस्पिटल से, चोइथराम हॉस्पिटल से 4 और एमआरटीबी हॉस्पिटल से 6 मरीज डिस्चार्ज हुए हैं। इसके साथ ही डिस्चार्ज मरीजों की संख्या बढ़कर 1064 हो गई है जबकि बुधवार शाम तक 1038 मरीज ही विभिन्न अस्पतालों में भर्ती थे। पांच दिन में यदि 425 नए केस सामने आए हैं तो छह दिन में 401 डिस्चार्ज होकर घर भी लौटे हैं।

सैंपलिंग से बढ़े मरीज

इंदौर में पांच दिन में संक्रमितों की संख्या का जो ग्राफ बढ़ा है, उसकी वजह लापरवाही कम, जागरूकता ज्यादा है। जागरूकता ही है जिसके चलते हर दिन एक हजार से अधिक लोगों की सैंपलिंग हुई है। 8 से 12 मई के बीच कुल 5778 सैंपल्स की जांच हुई। इस दौरान कुल 380 संक्रमित सामने आए। यानी 6.57 प्रतिशत। जबकि 93.43 प्रतिशत सैंपल नेगेटिव रहे। इससे पहले 25 मार्च से लेकर 25 अप्रैल के बीच 32 दिनों में कुल 5594 सैंपल्स की जांच हुई थी। पॉजिटिव मिले थे 1012 लोग। यानी 18.09 प्रतिशत। जो पांच दिन के मुकाबले 11.52 प्रतिशत ज्यादा थे।

admin