राजधानी में शुरू होगा सीरो सर्वे,ये बढ़ते मामले से लेकर आपके शरीर के इम्यून सिस्टम का पता लगाएगा

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

भारत सहित पूरी दुनिया कोरोना के कहर से त्रस्त है और पूरी दुनिया में कोरोना के लिए वैक्सीन बनाने के प्रयासों के अलावा कोरोना की जांच के लिए भी सस्ती और कारगर तकनीकों की ओर कदम बढ़ाए जा रहे हैं।

राजधानी में बढ़ते मामलों के बीच रक्त संबंधी सर्वेक्षण (सीरोलॉजिकल सर्वे) शनिवार से यहां शुरू किए जाएंगे। इस सर्वे के जरिए दिल्ली में कोविड-19 का व्यापक विश्लेषण किया जाएगा तथा वैश्विक महामारी से निपटने के लिए एक व्यापक रणनीति बनाने में भी यह सहायक होगा।

कोरोना मामले में दिल्ली ने मुंबई को भी पछाड़ दिया है

कोरोना मामले में दिल्ली ने आर्थिक राजधानी मुंबई को भी पछाड़ दिया है। दिल्ली में अब कोरोना वायरस के मामले बढ़कर 73,780 हो गए हैं और यहां संक्रमण से अब तक 2,429 लोगों की मौत हो गई है।

इस सर्वे में लोगों के ब्लड सैंपल लिए जाएंगे और इस बात का पता लगाया जाएगा कि कितने लोग ऐसे हैं, जिनके शरीर में कोरोना की एंटीबॉडी बनी है। यह संक्रमण और ऑटोइम्यून बीमारियों के निदान के लिए किया जाता है। इसके अलावा इससे यह भी पता चलता है कि व्यक्ति में कुछ बीमारियों से लड़ने के लिए इम्युनिटी पॉवर कितनी है।

राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र और दिल्ली सरकार द्वारा संयुक्त रुप से 14 दिन तक चलने वाला यह सर्वे 10 जुलाई को पूरा होगा। इसमें दिल्ली में अलग-अलग वर्ग और आयु के 20,000 लोगों के ब्लड सैंपल लेकर जांच की जाएगी।

11 जिलों में नोडल अधिकारी पहले ही नियुक्त कर दिए हैं

इसका उद्देश्य यह भी पता लगाना है कि संक्रमण कम्युनिटी में कितना फैला है ताकि इसको रोकने के लिए नए सिरे से रणनीति बनाई जाए और आने वाले समय में मरीजों की संख्या का अनुमान लगाकर अस्पताल समेत अन्य सुविधाएं बढ़ाई जा सके।

एनसीडीसी सर्वे में जिले की जनसंख्या के अनुसार सैंपल लेगा। इसके लिए एनसीडीसी ने सभी 11 जिलों में अपने नोडल अधिकारी पहले ही नियुक्त कर दिए हैं। सर्वे जिला उपायुक्त की देखरेख में होगा।

सहमति लेने के साथ ही एक जानकारी फॉर्म भरना होगा

दिल्ली सरकार की तरफ से सर्वे टीम में संबंधित इलाके की आशा कार्यकर्ता और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के साथ ही सैंपल के लिए ब्लड निकालने के लिए प्रशिक्षित नर्स और लैब टेक्नीशियन होंगे।

सर्वे टीम के पास सैंपल लेने के लिए सहमति लेने के फॉर्म के साथ ही एक जानकारी भरने के लिए फॉर्म होगा। इसके बाद संबंधित की सहमति मिलने के बाद 5 से 10 एम एल ब्लड सैंपल के लिए लिया जाएगा। इसे एनसीडीसी की लैब में भेजा जाएगा।

admin