शाह ने कहा घबराने की जरूरत नहीं दिल्ली में नहीं हो रहा कम्युनिटी स्प्रेड, इसे बेकार में तूल दिया जा रहा है

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया द्वारा जुलाई के अंत तक कोरोना मरीजों की संख्या को लेकर किए गए दावे को खारिज किया है।

शाह ने रविवार को कहा कि दिल्ली में कोरोना के टेस्ट चार गुना बढ़ाए गए हैं, इसलिए मामले बढ़ रहे हैं। दिल्ली में प्रतिदिन 16 हजार टेस्ट हो रहे हैं।

5.50 लाख मामले पहुंचने की बात कही जा रही है

शाह ने कहा कि दिल्ली के डिप्टी मनीष सिसोदिया के बयान के कारण राजधानी में कोरोना को लेकर डर पैदा हुआ। हम कोरोना से निपटने के लिए तैयार हैं। दिल्ली सरकार की ओर से 31 जुलाई तक 5.50 लाख मामले पहुंचने की बात कही जा रही है।

उन्होंने कहा, राजधानी में कम्युनिटी स्प्रेड नहीं हुआ है। कोरोना से घबराने की जरूरत नहीं है। इसे बेकार में तूल दिया जा रहा है।

समाचार एजेंसी एएनआई के दिए एक इंटरव्यू में अमित शाह ने कहा कि दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के बयान के कारण राजधानी में कोरोना को लेकर डर पैदा हुआ। हम कोरोना से निपटने के लिए तैयार हैं।

दिल्ली सरकार के साथ कोई खींचतान नहीं है

 

दिल्ली सरकार की ओर से 31 जुलाई तक 5.50 लाख मामले पहुंचने की बात कही जा रही है। ऐसा दिल्ली में नहीं होगा। कोरोना के इतने मामले दिल्ली में नहीं आएंगे।

गृह मंत्री ने कहा कि कोरोना के प्रकोप को रोकने के लिए दिल्ली में उठाए जा रहे कदमों के बारे में दिल्ली सरकार के साथ कोई खींचतान नहीं है और सारे फैसले दिल्ली सरकार की सहमति से लिए जा रहे हैं।

मेडिकल स्टाफ की कमी पूरा करने के लिए रिटायर कर्मचारियों को वापस लाया जा रहा है

उन्होंने कहा कि दिल्ली में कोरोना के इलाज को लेकर कई शिकायतें आ रही थी। खासकर कोरोना के कारण जान गंवाने वाले लोगों का अंतिम संस्कार नहीं हो पा रहा था। करीब 350 शव ऐसे ही पड़े थे। अब इसके लिए व्यवस्था बना दी गई है।

दिल्ली में डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ की कमी को पूरा करने के लिए रिटायर हो चुके कर्मचारियों को वापस लाया जा रहा है। दक्षिण दिल्ली में बनाए गए 10 हजार बेड के आइसोलेशन सेंटर में आईटीबीपी का मेडिकल स्टाफ लगाया गया है।

 

admin