सुशांत की बहन ने कहा कि तुम्हारी चमकती आंखों ने दुनिया को सिखाया है कि सपने कैसे देखते हैं

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

किसी भी परिवार के लिए वो वक़्त काफी नाजुक होता है जब परिवार में किसी की मृत्यु हुई हो। अभी कुछ दिनों पहले सुशांत ने आत्महत्या कर लिया है, इस बात पर यकीन करना उनके परिवार के लिए काफी मुश्किल है। हालांकि वे बहुत बहादुरी से इस कठिन वक्त का सामना कर रहे हैं।

सुशांत की बहन श्वेता सिंह जो यूएस में रहती हैं, उन्होंने एक बहुत ही इमोशनल पोस्ट लिखा है। उसमें लिखा है कि सुशांत बहादुरी से इस लड़ाई को लड़ रहे थे।

बहन ने कहा आप एक योद्धा थे और बहादुरी से लड़ रहे थे

श्वेता सिंह कीर्ति ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा है, “मेरा बेबी, मेरा बाबू,  मेरा बच्चा अब हमारे साथ शारीरिक रूप से मौजूद नहीं है और यह ठीक है। मुझे पता है कि आप बहुत दर्द में थे और मुझे पता है कि आप एक योद्धा थे और बहादुरी से लड़ रहे थे।”

उन्होंने अपने भाई को याद करते हुए लिखा कि तुम्हारी चमकती आंखों ने दुनिया को सिखाया है कि सपने कैसे देखते हैं। मासूमियत भरी तुम्हारी स्माइल तुम्हारे साफ दिल को दिखाती थी। तुम्हें हम हमेशा प्यार करते रहेंगे बेबी बहुत ज्यादा।

जानते हो तुमसे हर कोई प्यार करता था

श्वेता ने आगे लिखा, “मेरा बेबी मैं तुमसे हमेशा बहुत सारा प्यार करती रहूंगी। तुम जहां भी रहो मेरे बच्चे हमेशा खुश रहो। और जानते हो कि तुमसे हर कोई प्यार करता था, करता है और हमेशा बिना शर्त के प्यार करता रहेगा।”

इस पोस्ट के साथ श्वेता ने सुशांत की एक तस्वीर और एक नोट भी शेयर किया था, लेकिन उन्होंने अब ये पोस्ट डिलीट कर दिया है। इसके अलावा एक और पोस्ट डालकर जानकारी दी कि 18 जून को सुशांत की अस्थियों को विसर्जित किया जाएगा।

श्वेता ने शेयर किया सुशांत का दिया एक नोट

इसी बीच उनके डिप्रेशन को लेकर कई सारी थ्योरीज़ लोग सोशल मीडिया पर लिखने लगे। कईयों ने कई बड़े डायरेक्टर्स और एक्टर्स पर आरोप लगाया, किसी ने नेपोटिज्म को कारण बताया तो कोई उनको बेहतर रोल नहीं मिलने को कारण बता रहे हैं।

श्वेता ने सुशांत के चाहनेवालों के लिए लिखा, “मेरे सभी प्रियजन, मैं जानती हूं कि यह मुश्किल समय है लेकिन नफरत की जगह प्यार को, क्रोध की जगह दया और करुणा को चुनें।”

श्वेता सिंह कीर्ति ने सुशांत सिंह राजपूत द्वारा लिखा एक नोट भी शेयर किया, जिसमें लिखा है “वह जो कहती है कि वह कर सकती है और वह जो कहती है कि वह नहीं कर सकती है, आमतौर पर दोनों ही सही हैं। तुम पहली वह महिला हो। तुम्हें प्यार। भाई सुशांत।”

admin