131 मंदिर बनवाने वाले परिवार ने डिजाइन किया है राम मंदिर

अयोध्या

गुजरात के सोमपुरा परिवार की 15वीं पीढ़ी देश-दुनिया में अपने काम से चर्चित

अयोध्या के बहुप्रतीक्षित राममंदिर का भूमि पूजन 5 अगस्त को होने जा रहा है। उसी दिन से राम मंदिर का निर्माण शुरू हो जाएगा। ऐसे में यह जानना जरूरी हो जाता है कि इस राम मंदिर का डिजाइन आखिर किसने बनाया है? खास बात ये है कि इसके पीछे गुजरात के एक आर्किटेक परिवार का दिमाग है। ये सोमपुरा परिवार 15 पीढ़ियों से एक ही काम कर रहा है। और वह है- मंदिरों का डिजाइन बनाना।

न सिर्फ भारत बल्कि विदेशों में भी इस परिवार ने कई मंदिरों को डिजाइन कर ख्याति अर्जित की है। इनमें गुजरात के सोमनाथ, अक्षरधाम, अंबाजी मंदिर के साथ ही लंदन का स्वामीनारायण मंदिर भी शामिल है। गुजरात के इस सोमपुरा परिवार की पहचान इससे भी है कि ये नागर शैली के मंदिरों की डिजाइन वास्तुकला के हिसाब से बनाता है। इनकी 15 पीढ़ियां अब तक देश-विदेश में 131 से अधिक मंदिर की डिजाइन तैयार कर चुकी है। इस परिवार में चंद्रकांत सोमपुरा, इनके बड़े बेटे निखिल सोमपुरा, छोटे बेटे आशीष सोमपुरा मुख्य हैं। चंद्रकांत सोमपुरा के पिता प्रभाशंकर सोमपुरा ने गुजरात के सोमनाथ मंदिर का डिजाइन बनाया था, जिसके लिए उन्हें पद्मश्री से भी सम्मानित किया जा चुका है। इसी के साथ वह शिल्प शास्त्र पर 15 किताबें भी लिख चुके हैं। सोमपुरा परिवार के लगभग सभी सदस्य मंदिर निर्माण के काम से जुड़े हुए हैं।

अष्टकोण में है गर्भग्रह, परिक्रमा गोलाई में

चंद्रकांत सोमपुरा का कहना है, “राम मंदिर का जो मॉडल तैयार हुआ है वह वास्तु शास्त्र के हिसाब से नागर शैली में डिज़ाइन किया गया है। यह शैली दक्षिण भारत को छोड़कर पूरे उत्तर भारत में प्रचलित है। मंदिर का गर्भगृह अष्टकोण में है, मंदिर की परिक्रमा गोलाई में बनाई गई है।” राम मंदिर की डिजाइन, डायग्राम, विभिन्न हिस्सों के नक्शे, 3-डी मॉडल इसी परिवार ने बनाए हैं। कुल 17 हिस्सों की डिजाइन तैयार की है।

admin