जेसिका के हत्यारे ने कहा एक भी दिन ऐसा नहीं था जब मैंने जेसिका को मारने का अफसोस ना किया हो

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

मॉडल जेसिका लाल की हत्या के दोषी मनु शर्मा को मंगलवार को तिहाड़ जेल से रिहा कर दिया गया है। मनु को 3 साल पहले ही रिहा कर दिया गया है। इसके पीछे जेल में उसका आचरण अच्छा होना कारण बताया गया है।

दिल्ली के उप राज्यपाल अनिल बैजल ने मनु की रिहाई को स्वीकृति दी है। मनु शर्मा ने जेसिका की हत्या के मामले में 17 साल जेल में गुजारे हैं।

रिहा होने के बाद हिंदुस्तान टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में अपने जेल के दिनों को याद करते हुए मनु शर्मा ने कहा कि एक भी दिन ऐसा नहीं था जब मैंने जेसिका को मारने का अफसोस ना किया हो।

जेसिका को मारने का अफसोस मुझे रोज होता था

मनु शर्मा ने कहा जेल जाना सबसे कठिन और डरावनी चीजों में से एक है जो किसी को भी हो सकती है। मनु ने अपने जेल के एक्सपीरियंस को शेयर करते हुए बताया, “वहां दिन का सबसे कठिन काम शायद शौचालय का उपयोग करना था, क्योंकि 500 ​​से अधिक कैदियों के लिए सिर्फ पांच शौचालय ही हैं। पानी की एक ही बाल्टी होती थी। आप तिहाड़ में कई कठिनाइयों का सामना करते हैं, लेकिन समय के साथ आप उनके साथ रहना सीख जाते हैं।”

इसी दौरान इंटरव्यू में यह पूछे जाने पर कि “जेसिका लाल की बहन सबरीना ने पहले तिहाड़ अधिकारियों को लिखा था कि उस रात जो हुआ था, उसके लिए उसने आपको माफ कर दिया था।”

इस पर मनु ने कहा, “सबरीना और उनके परिवार के प्रति मेरी कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए मेरे पास कोई शब्द नहीं हैं। उन्हें और उनके परिवार को मेरी तरफ से जो भी दुख पहुंचा मुझे उसके लिए खेद है। मैं उनके इस आचरण के लिए सदा आभारी हूं।”

इतने साल अकेले रहकर जिंदगी के कुछ कड़े सबक मिले हैं

मनु शर्मा साल 1999 के 29-30 अप्रैल की वो रात याद आती है। जब शर्मा ने जेसिका लाल के ड्रिंक सर्व करने से इनकार करने पर उसे गोली मार दी थी। शर्मा अब कहता है, “जो हुआ, उसे बदलने के लिए मैं कुछ भी करूंगा। काश मैं कर सकता। जो हुआ, उसका मुझे बेहद दुख है, इतना कि शब्‍दों में बयान नहीं कर सकता।”

शर्मा के मुताबिक, इतने साल अकेले रहकर उसे जिंदगी के कुछ कड़े सबक मिले हैं और सुधरने में मदद मिली। उसे कहा कि घर और लग्‍जरी से अलग, जेल की जिंदगी मुश्किल थी मगर ‘धीरे-धीरे आप उसके आदी हो जाते हैं।’

हरियाणा के नेता का बेटा होने के चलते पहले बरी किया गया था

मनु शर्मा हरियाणा के नेता विनोद शर्मा का बेटा है। सात साल तक चले मुकदमे के बाद इस मामले में फरवरी 2006 में सभी आरोपी बरी हो गए थे। आरोपियों के बरी होने के बाद भी जेसिका का परिवार निराश नहीं हुआ। उसकी बहन ने नए सिरे से इस केस में जान फूंकने की कोशिश की।

यह मामला मीडिया में उछला। उसके बाद तो जेसिका लाल मर्डर केस में इंसाफ के लिए दिल्ली क्या पूरा देश एक साथ आ गया। इस केस को दोबारा खोलना पड़ा। फास्टट्रैक कोर्ट में केस चला। उसके बाद जेसिका के हत्यारे मनु शर्मा को उम्र कैद की सजा सुनाई गई।

शराब सर्व नहीं करने पर की थी हत्या

30 अप्रैल, 1999 की रात दक्षिणी दिल्ली के महरौली इलाके में सोशलाइट बीना रमानी के स्वामित्व वाली टैमरिंड कोर्ट रेस्तरां में शराब परोसने से इनकार करने के बाद मनु शर्मा ने जेसिका लाल को गोली मार दी थी। जेसिका लाल के कत्ल के आरोप में मनु शर्मा और अन्य अभियुक्तों पर निचली अदालत में सात साल मुकदमा चला था। 

admin