28 फरवरी से प्रारंभ हो गया है फाल्‍गुन का माह, जानें इस मास में क्‍या करें और क्‍या नही?

आज फरवरी माह का आखिरी दिन है इसी के साथ ही आज यानि 28 फरवरी से हिंदू पंचांग का फाल्गुन मास (Phalgun month) प्रारंभ हो रहा है। इस माह को नई ऊर्जा और यौवन का महीना कहा जाता है। 28 फरवरी यानी आज से शुरू होकर 28 मार्च तक चलेगा। इसे वसंत ऋतु का महीना भी कहा जाता है। इस दौरान न तो ज्यादा गर्मी होती है और न ही ज्यादा सर्दी। फाल्गुन माह (Phalgun month) में कई अहम त्यौहार मनाई जाते हैं। इस माह में कई त्यौहार मनाए जाते हैं। इसमें होली प्रमुख है। इस माह में पर्यावरण (environment) में नयापन आता है और नई ऊर्जा का संचार होता है। सिर्फ पर्यावरण (environment) की दृष्टि से ही नहीं बल्कि धार्मिक दृष्टि से भी यह माह बेहद महत्वपूर्ण होता है।

फाल्गुन माह में आएंगे ये त्यौहार:
हिंदू पंचांग के फाल्गुन मास (Phalgun month) में जानकी जयंती, सीता अष्टमी, होली जैसे कई त्यौहार आते हैं। साथ ही विजया एकादशी और महाशिवरात्रि भी इसी महीने में आती है। फाल्गुन मास (Phalgun month) के आखिरी दिन पूर्णिमा पर होलिका पूजन और दहन के बाद अगले दिन रंग खेलने का रिवाज है।

फाल्गुन माह (Phalgun month) में इन बातों का जरूर रखें ध्‍यान:

फाल्गुन मास (Phalgun month) पवित्र माह कहा जाता है ऐसे में नशीली चीजों और मांस-मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए।

साफ-सफाई पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए। साथ ही रहन सहन को लेकर भी सौम्यता और बरतनी चाहिए।

इस मास में शीतल या सामान्य जल से ही स्नान करना चाहिए।

हो सके तो इस महीने फल का सेवन ज्यादा से ज्यादा किया जाना चाहिए।

इस माह में श्रीकृष्ण (shree krishna) की पूजा नियमित रूप से की जानी चाहिए। इससे श्रीकृष्ण बेहद प्रसन्न हो जाते हैं।

पूजा करते समय फूलों का जितना हो सके उतना इस्तेमाल करना चाहिए।

नोट- उपरोक्त दी गई जानकारी व सूचना सामान्य उद्देश्य के लिए दी गई है। हम इसकी सत्यता की जांच का दावा नही करतें हैं यह जानकारी विभिन्न माध्यमों जैसे ज्योतिषियों, धर्मग्रंथों, पंचाग आदि से ली गई है । इस उपयोग करने वाले की स्वयं की जिम्मेंदारी होगी ।

admin