मां-बाप पर गोली बरसा रहे आतंकियों को एके-47 से भूना

काबुल

हिम्मती लड़की की दुनियाभर में तारीफ

अफगानिस्तान के घोर प्रांत में 16 साल की एक लड़की ने गजब का साहस दिखाया है। उसने दो तालिबान आतंकियों को मार गिराया। उसके साहस की अब दुनियाभर में तारीफ हो रही है। लड़की का नाम है- कमर गुल और उसकी उम्र है सिर्फ 16 साल बताई जा रही है।

तालिबान के आतंकी उसके घर में घुस आए थे और उसके माता-पिता को मार डाला। अपने मां और पिता का कत्ल होते देख 16 साल की कमर गुल ने वहीं पड़ी एके-47 उठा ली और ताबड़तोड़ फायरिंग की, जिसमें दो आतंकी मारे गए और कुछ और घायल भी हो गए। गुल ने इस तरह से आतंकियों पर फायर किए कि वे बौखला गए और उन्हें भागना पड़ा। अचानक हुए जवाबी हमले और लड़की की हिम्मत देख आतंकी आश्चर्यचकित रह गए। कमर गुल की उम्र 14 से 16 साल के बीच बताई जा रही है। गुल का परिवार घोर प्रांत के एक गांव में रहता है। लड़की के पिता मलिकजादा गांव में सरकार के समर्थक थे और प्रधान भी थे। इसके चलते तालिबानी आतंकी उन्हें पसंद नहीं करते थे। बीते हफ्ते कुछ बंदूकधारी आतंकी उनके घर में घुस आए और उनको मारने लगे। गुल की मां बीच में आई तो वो दोनों को घसीटकर लाए और उनकी हत्या कर दी। माता-पिता को मरता देख गुल ने एके-47 उठकर आतंकियों पर फायरिंग शुरू कर दी।

स्थानीय अधिकारियों का कहना है कि गुल के जवाबी हमले के बाद तालिबानी आतंकी तुरंत तो वहां से चले गए। लेकिन कुछ देर बाद अपने साथियों के साथ वापस आए। हालांकि कुछ ग्रामीणों और सरकार समर्थक लड़ाकों ने उन्हें खदेड़ दिया। प्रांतीय गवर्नर के प्रवक्ता मोहम्मद आरेफ अबर ने कहा कि फिर से हमले के डर के चलते अफगान सुरक्षाबलों ने कमर गुल और उसके छोटे भाई को सुरक्षित स्थान पर भेज दिया है।

वायरल हो रही गुल की तस्वीर

इस घटना के बाद सोशल मीडिया पर एक फोटो वायरल हो रही है। जिसमें एक लड़की स्कार्फ बांधे हुए एके-47 लिए बैठी है। ये तस्वीर गुल की ही बताई जा रही है। वहीं गुल के आतंकियों पर जवाबी हमला करने को लेकर उनकी दुनियाभर में उसकी तारीफ हो रही है। सोशल मीडिया साइट पर कई लोगों ने उसके ऐसा करने को सही ठहराया है और उसकी हिम्मत की दाद दी है। वहीं बहुत से लोगों ने अफगानिस्तान के हालात पर चिंता भी जाहिर की है कि कैसे छोटे-छोटे बच्चे हिंसा का सामना कर रहे हैं।

 

admin