कोरोना वायरस की थ्योरी 2013 में ही आ गई थी सामने

वॉशिंगटन

कोरोना की खोज सालों पहले ही वैज्ञानिक कर चुके थे, ऐसे 500 वायरस की हो चुकी पहचान

कोरोना वायरस की उत्पत्ति और सवालों के बीच इसके वाहक बने चमगादड़ों पर कई देशों में रिसर्च चल रही है। चीन में ऐसी ही रिसर्च जनवरी में उस वक्त की गई थी जब वुहान समेत पूरे देश में कोरोना वायरस के मामले हजारों में पहुंच चुके थे। ये खोज यूनान प्रांत में मौजूद चूना पत्थर की गुफाओं में की गई थी। इस खोज को अमेरिका की गैर लाभकारी संस्था इको-हेल्थ एलाइंस ने अंजाम दिया था। इस रिसर्च के दौरान वैज्ञानिक यहां से चमगादड़ों के जालों, थूक और खून समेत कई तरह के नमूने एकत्रित किए। इस दौरान वैज्ञानिकों का दल विशेष सुरक्षा सूट पहने हुए था।

आपको बता दें कि इको-हेल्थ एलाइंस नए घातक वायरसों की पहचान करने और बचाव करने में मदद करता है। इको-हेल्थ एलांइस के अध्यक्ष और वैज्ञानिक पीटर दासजाक इससे पहले भी इस तरह की खोज कर चुके हैं। आपको बता दें कि पूरी दुनिया में चमगादड़ों से सृजित करीब 500 घातक वायरस खोजे जा चुके हैं। वर्ष 2003 और वर्ष 2004 में भी इस तरह के घातक वायरस की खोज की गई थी। वैज्ञानिकों का कहना है कि अब तक खोजे गए घातक वायरस और दुनिया के लिए समस्या बना नोवेल कोरोना वायरस इनसे करीब 96 फीसद तक मेल खाता है। खुद पीटर ही बीते 10 वर्षों में 20 से ज्यादा देशों में खतरनाक वायरस की खोज कर चुके हैं। इन वैज्ञानिकों के लिए खोज का माध्यम केवल चमगादड़ ही नहीं बनते हैं बल्कि दूसरे जानवर भी होते हैं। जहां तक चमगादड़ों की बात है तो आपको यहां पर ये भी बता देते हैं कि अब तक हुई रिसर्च में ये बात काफी दमदार तरीके से सामने आई है कि चमगादड़ों के जरिए ही ये वायरस पहले चीन में और फिर पूरी दुनिया में फैला है।

खोज के दौरान मौजूदा वायरस से 96 फीसद हुआ था मिलान

गौरतलब है कि चीन के वैज्ञानिक और वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ विरोलॉजी के प्रमुख वैज्ञानिक शी जेंगली ने चमगादड़ों से मिलने वाले वायरस पर काफी समय तक शोध किया है। लांसेट जर्नल में छपे रिसर्च पेपर में उन्होंने लिखा था कि अपने शोध के लिए उन्होंने चमगादड़ों का जो मल एकत्रित किया था उसमें नोवेल कोरोना वायरस के मिलने की पुष्टि हुई थी। उन्होंने ये खोज वर्ष 2013 में की थी। नवंबर-दिसंबर के दौरान जब ये बीमारी चीन में फैल रही थी तब इस वायरस का पहले से मौजूद वायरस से मिलान किया गया था। उस वक्त इन दोनों में 96 फीसद मेल सामने आया था।

admin