जामिया के छात्रों पर लाठी चार्ज की 45 सेकेंड की फुटेज पर क्या कहेगी दिल्ली पुलिस

विभव देव शुक्ला

देश की आबादी के एक बड़े हिस्से ने नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर भरपूर विरोध किया। कई इलाक़ों में विरोध अभी तक जारी है, बच्चों से लेकर बूढ़े तक सभी इस विरोध में शामिल हुए। राजधानी स्थित देश के मशहूर संस्थान जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों ने भी इस कानून को लेकर खूब विरोध किया था। विरोध के लिए निकाले गए मार्च को रोकने के लिए पुलिस ने कार्यवाई भी की थी और उस दौरान काफी बवाल हुआ।

दिल्ली पुलिस का बल प्रयोग से इन्कार
पुलिस ने छात्रों पर खूब बल प्रयोग किया, लाठी चार्ज किया और आँसू गैस के गोले भी छोड़े। पुलिस की कार्यवाई के तमाम वीडियो सोशल मीडिया पर खूब देखे गए थे, हालांकि पुलिस का कहना था कि उन्होंने जामिया के भीतर दाखिल हुए प्रदर्शनकारियों को निकालने के लिए ऐसा किया था। लेकिन पुलिस ने किसी भी तरह का बल प्रयोग करने से सीधे इन्कार किया था।
फिलहाल 15 दिसम्बर को पुलिस द्वारा जामिया मिलिया इस्लामिया के पुस्तकालय में की गई कार्यवाई का एक और वीडियो सामने आया है। 45 सेकेंड के इस वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि पुलिस अंधाधुंध लाठियां चला रही है। वीडियो जामिया पुस्तकालय की ओल्ड रीडिंग बिल्डिंग का बताया जा रहा है जिसमें पुलिस मौके पर मौजूद छात्रों पर खूब लाठियां चला रही है।

JCC ने साझा किया 45 सेकेंड का वीडियो
जामिया के पूर्व छात्रों का एक संगठन है ‘जामिया को-ओर्डिनेशन कमेटी’ (JCC)। JCC ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर यह वीडियो साझा किया है। ट्वीट में यह भी लिखा है,
15 दिसम्बर 2019 को ओल्ड रीडिंग हॉल के पहले तल पर एमए/एमफिल सेक्शन का एक्सक्लूसिव सीसीटीवी फुटेज। शेम ऑन यू दिल्ली पुलिस। इसके अलावा JCC ने मामले पर एक बयान भी जारी किया है।
बयान में उनका कहना है ‘सीसीटीवी फुटेज में साफ-साफ देखा जा सकता है कि किस तरह राज्य-प्रायोजित आतंकी पुस्तकालय के रीडिंग हॉल में पढ़ रहे छात्रों के साथ बर्बरता कर रहे हैं।

सवाल पुलिस की भूमिका पर
फिलहाल मामले पर दिल्ली पुलिस ने बहुत स्पष्ट राय नहीं रखी है। दिल्ली पुलिस का कहना है कि जामिया में हुई कार्यवाई की जांच क्राइम ब्रांच कर रही है। इस वीडियो पर हम दिलहाल कुछ नहीं कह सकते हैं लेकिन वीडियो की जांच की जा रही है उसके बाद ही कुछ कह पाना सही होगा। जांच का नतीजा कुछ भी हो लेकिन इस बात को नकारा नहीं जा सकता कि 45 सेकेंड के वीडियो में पुलिस छात्रों पर जम कर लाठी चला रही है। ऐसे में पुलिस की भूमिका पर भी पर्याप्त सवाल उठते हैं।

admin