ऐसा क्या कहा क्रिकेट के दिग्गजों ने जो देश के युवाओं को सुनना और समझना चाहिए

विभव देव शुक्ला

पूरे देश की जनता ने बीते कुछ दिनों पहले ऐतिहासिक विरोध देखा और कभी न भूलने वाली बहस का हिस्सा बनी। विरोध और बहस के बीच बनी इस जगह में तमाम तरह के लोग भी शामिल हुए, जिसमें सबसे ज़्यादा उल्लेखनीय रहे दिग्गज। फिल्मी दुनिया के फनकार, राजनीतिक दलों के नेता और अब खेल की दुनिया के सितारे, देश में जितना कुछ चल रहा है उसे लेकर सभी अपने-अपने हिस्से की राय दे रहे हैं। सबसे ताज़ा प्रतिक्रिया आई है भारतीय टीम के दिग्गज क्रिकेटर सुनील गावस्कर की तरफ से।

पूरे देश में खलबली मची हुई है
लाल बहादुर शास्त्री का 26वां स्मृति व्याख्यान था और मौके पर गावस्कर को अपनी राय पेश करनी थी। गावस्कर की प्रतिक्रिया के साथ एक अच्छी बात यह है कि इसमें न तो विरोध है और न ही समर्थन। न ही गुस्सा है और न ही सहमति, जितना है सुनने और समझने लायक है और खासकर नई पीढ़ी के लिए। गावस्कर का कहना है पूरे देश में खलबली मची हुई है। हमारे देश के नौजवान क्लास में होने की बजाय सड़कों पर हैं और सड़कों पर होने के चलते कई अस्पतालों में हैं।

नौजवानों की बड़ी आबादी क्लास रूम में है
इसके बाद उन्होंने कहा इतने के बावजूद नौजवानों की एक बड़ी आबादी अपनी कक्षाओं में मौजूद है और अपने आने वाले कल को सुधारने के लिए प्रतिबद्ध है। आने वाले समय में यही लोग अपने देश को भी आगे लेकर जाएंगे। हमारा देश ऐसा है कि हम आगे तभी बढ़ सकते हैं, दुनिया में अच्छा तभी कर सकते हैं जब हम एक जुट होकर रहें।
हर वर्ग के व्यक्ति को सबसे पहले यह भावना रखनी होगी कि हम भारतीय हैं। हमारे खेल ने भी हमें यही सिखाया है कि हम तभी जीत सकते हैं जब हम एक साथ बने रहें। हमारे देश ने अतीत में बहुत मुश्किल हालात देखे हैं लेकिन सबका सामना करता है। ऐसे ही हमारा देश इस परेशानी का भी सामना कर लेगा।

विराट ने कहा था बिना जानकारी कुछ नहीं कहूँगा
इसी तरह भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने देश में छिड़ी बहस पर अपनी राय रखी थी। विराट ने कहा था कि मैं इस नागरिकता संशोधन अधिनियम पर कोई टिप्पणी नहीं करने वाला हूँ। जब तक मुझे इस बारे में अच्छे से जानकारी नहीं मिल जाती है। चूंकि उस समय विराट गुवाहाटी में ही थे इसलिए उन्होंने कहा यह शहर पूरी तरह सुरक्षित है। हमें यहाँ तक आने में कोई परेशानी नहीं हुई, हम यहाँ तक बिना किसी परेशानी के आए।
श्रीलंका की टीम से होने वाले पहले टी ट्वेंटी मैच के ठीक पहले विराट ने पत्रकारों से कई मुद्दों पर बातचीत की। जहां तक बात आती है नागरिकता संशोधन अधिनियम की तो मैं इस मामले में गैरज़िम्मेदार नहीं होना चाहता हूँ। इस मुद्दे पर कोई भी बात करने से पहले इसकी पूरी जानकारी होना बहुत ज़रूरी है। मैं किसी ऐसी बहस या विवाद का हिस्सा नहीं बनना चाहता हूँ जिसके बारे में मुझे जानकारी नहीं है।

admin