इस बार प्रधानमंत्री की तरफ से क्या आया है ‘गरीब कल्याण रोजगार अभियान’ की थाली में

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 50 हजार करोड़ रुपये की लागत वाली गरीब कल्याण रोजगार अभियान का शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेन्स के जरिए शुभारंभ किया है।

दिल्ली में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस अभियान को प्रधानमंत्री ने बिहार के खगड़िया जिले के ब्लॉक बेलदौर के गांव तेलिहार से शुरुआत की।

प्रधानमंत्री ने प्रवासी मजदूरों से बात कर साहस की तारीफ की

योजना के शुभारंभ के बाद उन्होंने देश के गांव और ग्रामीणों के प्रयासों की प्रशंसा की जो कोविड-19 से पूरे साहस के साथ सामना कर रहे हैं। प्रधानमंत्री ने प्रवासी मजदूरों से बात भी की और गरीबों को सरकार की ओर से मुफ्त राशन मिलने के बारे में चर्चा की।

गरीब कल्याण रोजगार अभियान को फिलहाल छह राज्यों के 116 जिलों में लागू किया जाएगा। इनमें बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, राजस्थान, झारखंड और ओड़िशा शामिल हैं। अभियान में रोजगार एवं अवस्थापना सृजन के तहत 25 प्रकार के काम कराए जाएंगे। इस योजना पर 50 हजार करोड़ रुपये की राशि व्यय की जाएगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “गरीब कल्याण रोजगार अभियान से आपके इस आत्मसम्मान की सुरक्षा भी होगी और आपके श्रम से आपके गांव का विकास भी होगा।”

गांव में ही 25 तरह के काम दिए जाएंगे

 

इस योजना के तहत गांव में ही इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़े 25 तरह के काम दिए जाएंगे और इसके माध्यम से प्रवासी मजदूरों को काम मिलेगा। अगर आप भी इस योजना के तहत काम पाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको गांव के सरपंच या मुखिया से मिलकर अपनी विशेषज्ञता बतानी होगी। यह स्कीम उन लोगों के लिए है जो प्रवासी है और उनके पास रोजगार नहीं है।

प्रधानमंत्री ने श्रमिकों को संबोधित करते हुए कहा, “श्रमेव जयते, आप श्रम की पूजा करने वाले लोग हैं, आपको काम चाहिए, रोजगार चाहिए। इस भावना को सर्वोपरि रखते हुए ही सरकार ने इस योजना को बनाया है, इस योजना को इतने कम समय में लागू किया है।”

नीतीश कुमार ने भी तेलिहार गांव से किया था वादा

यह योजना 12 विभिन्न मंत्रालयों और विभागों- ग्रामीण विकास पंचायती राज, सड़क परिवहन और हाइवे, खनन, पेयजल व सैनिटेशन के जरिए सफल होगा।

वहीं जलजीवन हरियाली यात्रा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी तेलिहार गांव गत चार जनवरी को पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने 22 सौ करोड़ की लागत से 250 विभिन्न योजनाओं की आधारशिला रखी थी। वहीं 73 करोड़ की राशि से 126 योजनाओं का उद्घाटन किया था। सीएम के जल जीवन हरियाली मॉडल का भी निरीक्षण किया था।

कोरोना पर क्या बोले पीएम

ये जनसंख्या यूरोप के सारे देशों को मिला दें, तो भी उससे कहीं ज्यादा है। ये जनसंख्या, पूरे अमेरिका को मिला दें, रूस को मिला दें, ऑस्ट्रेलिया को मिला दें, तो भी उससे कहीं ज्यादा है। इतनी बड़ी जनसंख्या का कोरोना का इतने साहस से मुकाबला करना, इतनी सफलता से मुकाबला करना, बहुत बड़ी बात है। इस सफलता के पीछे हमारे ग्रामीण भारत की जागरूकता ने काम किया है।

उन्होंने कहा कि लेकिन इसमें भी ग्राउंड पर काम करने वाले हमारे साथी, ग्राम प्रधान, आंगनवाड़ी वर्कर, आशावर्कर्स, जीविका दीदी, इन सभी ने बहुत बेहतरीन काम किया है। ये सभी वाहवाही के पात्र हैं, प्रशंसा के पात्र हैं।

admin