क्या कहते हैं प्रदर्शनकारियों को शाहीन बाग से हटाने वाले भाजपा सांसद चुनाव के नतीजों पर

विभव देव शुक्ला

महीने भर से देश में चली चुनावी उठा-पटक आज लगभग खत्म हो चुकी है। आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल एक बार फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं। लेकिन पूरे चुनाव के दौरान काफी कुछ ऐसा हुआ जो सुर्खियों में रहा, नुक्कड़ और चौराहों की बहस का मुद्दा बना। चाहे वह नतीजों को लेकर नेताओं का दावा और आकलन हो या नेताओं द्वारा दिए गए बयान। दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान ऐसा ही एक चर्चित नाम थे पश्चिमी दिल्ली से भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा।

कमियों को सामने रखने की कोशिश
अपने बयानों के चलते पूरे चुनाव में सुर्खियों का केंद्र बने रहने वाले प्रवेश वर्मा ने नतीजों पर मीडिया वालों से बात की है। उनका कहना है ‘मैं दिल्लीवासियों के जनादेश को स्वीकार करता हूँ। पिछले 21 सालों से हम दिल्ली में सरकार नहीं बना पाए, पिछले 21 सालों से दिल्ली में गैरभाजपा दलों की सरकार बन रही है। इस बात का हमें दुख है कि हम दिल्ली सरकार की कमियों को दिल्ली की जनता के सामने अच्छे से नहीं रख पाए।
हम और मेहनत करेंगे और संघर्ष करेंगे, आने वाले 5 सालों में दिल्ली सरकार की जो कमियाँ होंगी हम उसे दिल्ली की जनता के सामने और बेहतर तरीके से रखने की कोशिश करेंगे। अगर दिल्ली का यह चुनाव शिक्षा और विकास के मॉडल पर हुआ होता तो दिल्ली के शिक्षा मंत्री कभी चुनाव नहीं हार रहे होते।

झूठे विज्ञापन और मुफ्त के प्रवाह में
दिल्लीवासी झूठे विज्ञापन और मुफ्त के प्रवाह में बह गए हैं, मैं इस बात को समझता हूँ कि लोगों को 3 महीने से बिजली-पानी का बिल फ्री आ रहा था। दिल्ली की महिलाओं को बसों में फ्री की यात्रा मिल रही थी मगर यह जो भी हो रहा था महज़ 3 महीने से हो रहा था। मगर मैं फिर भी दिल्ली की जनता को शुभकामनाएँ देता हूँ, मैं उनके जनादेश को बधाई देता हूँ।
आने वाले पाँच साल हमारे कार्यकर्ता और मेहनत करेंगे, इस चुनाव में भी कार्यकर्ताओं ने दिन रात मेहनत की है। हमारी दिल्ली प्रदेश भारतीय जनता पार्टी में, हम सब में क्या-क्या कमियाँ रह गई थीं। हम आने वाले चुनाव में अपना प्रदर्शन और बेहतर करने की कोशिश करेंगे। वहीं शाहीन बाग से जुड़े सवाल का जवाब देते हुए प्रवेश वर्मा ने कहा आप भी यहीं हैं और मैं भी यहीं हूँ, आने वाले समय में खूब बात करेंगे, खूब चर्चा करेंगे।

दिल्ली वालों के प्रति ज़िम्मेदारी
आप बुलाइएगा, मैं आऊँगा और आपसे खूब बात करूंगा। मैं आंकड़ों पर बात भी नहीं कर रहा हूँ कि हमारा वोट फीसद बढ़ा है, हमारी सीटें बढ़ रही हैं क्योंकि हमें दुख है हम सरकार नहीं बना पाए। हर चुनाव में हार-जीत का अपना महत्व होता है, जो सरकार बना पाए उनको मैं शुभकामनाएँ देता हूँ।
अब जो दिल्ली के मुख्यमंत्री होंगे 5 साल, दिल्ली की जनता को छोड़ कर नहीं जाएंगे। हमारे उपराज्यपाल के ऊपर या प्रधानमंत्री जी के ऊपर कोई भी आरोप या प्रत्यारोप नहीं लगाएंगे। दिल्ली के प्रति उनकी जो जिम्मेदारियाँ हैं, उनको अच्छे ढंग से पूरा करेंगे।

पहले दिए थे विवादित बयान
एक जनसभा में बोलते हुए भाजपा सांसद ने कहा था अगर 11 फरवरी को भाजपा सरकार बनाती है तो शाहीन बाग पर एक भी आन्दोलनकारी नज़र नहीं आएगा। परवेश वर्मा का विवादास्पद बयान यहीं खत्म नहीं होता है। इसके बाद उन्होंने कहा अगर 11 फरवरी को हमारी सरकार बनती है तो उसके बाद मुझे महज़ 1 महीने का समय चाहिए। मैं अपने संसदीय क्षेत्र में सरकारी ज़मीन पर बनी हर मस्जिद हटवा दूंगा। वहीं समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए परवेश वर्मा ने कहा शाहीन बाग में लाखों लोग जमा होते हैं।

बहन और बेटियों के साथ हुई ज़्यादती
दिल्ली के लोगों को इस बारे में सोचना होगा और फैसला लेना होगा। यह लोग आपके घरों में दाख़िल होंगे, आपकी बहन और बेटियों के साथ ज़्यादती करेंगे और उन्हें जान से मार देंगे। आज भले समय है लेकिन कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह आपको बचाने नहीं आएंगे। यह बहुत अच्छा होगा अगर दिल्ली के लोग समय रहते जग जाएँ।
भाजपा सांसद का कहना था कि शाहीन बाग में विरोध प्रदर्शन करने वाले लोग दिल्ली के मूल निवासियों को नुकसान पहुँचा सकते हैं। उन्हें समय रहते यह समझना होगा कि उन्हें इस ख़तरे से कैसे निपटना है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कहते हैं कि वह शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों के साथ हैं। लोग जानते हैं कि जम्मू कश्मीर में एक आग उठी थी जिसमें मासूम बहन और बेटियों के साथ ज़्यादती हुई थी।

admin