जब गांगुली के आइडल ने खुद उन्हें आईसीसी के नेतृत्व तथा राजनीतिक क्षमता के लिए बेस्ट बताया

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

जिस तरह से सौरव गांगुली ने मैच फिक्सिंग के बाद लड़खड़ाई टीम इंडिया को बतौर कप्तान खड़ा किया, ठीक उसी तरह दादा ने बीसीसीआई का अध्यक्ष बनने के बाद भी बेहतरीन काम किया है।

दरअसल इंग्लैंड के पूर्व कप्तान डेविड गॉवर का मानना है कि सौरव गांगुली के पास अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद का नेतृत्व करने के लिए जरूरी ‘राजनीतिक कौशल’ है और उन्होंने भारतीय क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में खुद को पहले ही साबित कर दिया है जो ‘बहुत कठिन काम’ है। 

डेविड गॉवर इंग्लैंड के पूर्व कप्तान होने के साथ ही सौरव गांगुली के आइडल भी हैं। गॉवर दुनिया के सबसे कलात्मक वामहस्त बल्लेबाजों में एक माने जाने वाले गांगुली के नेतृत्व क्षमता से प्रभावित है।

गॉवर ने ‘ग्लोफैंस’ के चैट कार्यक्रम ‘क्यू20′ से पहले कहा, ‘‘मैंने इतने वर्षों में जो कुछ सीखा है, वह यह है कि बीसीसीआई का संचालन करने के लिए अपके पास कई तरह का कौशल और समझ होने चाहिए। गांगुली जैसी प्रतिभा होना बोर्ड के लिए बहुत अच्छी शुरुआत है, लेकिन आपको एक बहुत ही विनम्र राजनीतिज्ञ होने की जरूरत है।”

उन्होंने कहा, ‘‘लाखों चीजों पर आपका नियंत्रण होना चाहिए।’’ गॉवर ने कहा कि बीसीसीआई के अध्यक्ष का पद विश्व क्रिकेट में सबसे मुश्किल कामों में से एक है। उन्होंने कहा, ‘‘जाहिर है आपको काफी जिम्मेदार होना होगा, भारत में इस खेल के एक अरब से ज्यादा प्रशंसक हैं।’’

उन्होंने आगे कहा, ‘वह शानदार इंसान है और उनके के पास राजनीतिक क्षमता है। उनका रवैया सही है और चीजों को साथ रख सकते हैं। वह अच्छा काम करेंगे। अगर आप बीसीसीआई प्रमुख के रूप में अच्छा काम करते हैं, तो कौन जानता है भविष्य में क्या हो?’

2019 में बीसीसीआई अध्यक्ष बने सौरव गांगुली को भारत के महानतम कप्तानों में से एक गिना जाता है, जिन्होंने टीम इंडिया को विदेशी धरती पर जीतना सिखाया। भारत ने गांगुली की कप्तानी में विदेशी धरती पर रिकॉर्ड 11 टेस्ट मैच जीते।

admin