कोरोना के तीसरे स्टेज में पहुँचने के बाद किन सुझावों पर ध्यान देने की ज़रूरत

विभव देव शुक्ला

फिलहाल पूरी दुनिया कोरोना की चपेट में आ चुकी है और हमारे देश में इसका असर काफी ज़्यादा बढ़ चुका है। देश के कुल 20 राज्यों के लगभग 223 लोग कोरोना वायरस से प्रभावित हैं।
सरकार इस महामारी से निपटने की हर संभव कोशिश कर रही है, मंत्रालय से लेकर महकमों तक सभी समय-समय पर दिशा निर्देश जारी कर रहे हैं। जबकि हमारा देश तीसरे स्टेज के करीब है, जिसके चलते इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने भी कई सुझाव दिए हैं।

सबसे पहले आईसीएमआर ने सबसे पहले कहा कि जो लोग अंतर्राष्ट्रीय यात्राएं करके आए हैं और जो कोरोना वायरस के प्रभावित हैं। ऐसे सभी लोगों से अगले 14 दिनों तक घर के अंदर (क्वारंटाइन) रहने की गुजारिश की गई है।

आदेश में आईसीएमआर ने लिखा है,

  1. हर एसिंप्टोमेटिक लोग जिन्होंने हाल फिलहाल में कोई अंतर्राष्ट्रीय यात्रा की है,
    उन्हें आगामी 14 दिनों तक अपने घरों में (क्वारंटाइन) रहना होगा।
    अगर उन्हें बुखार, कफ या साँस लेने में परेशानी होती है तब उनकी जाँच अनिवार्य रूप से की जानी चाहिए।
    अगर ऐसे किसी व्यक्ति की जाँच का नतीजा पॉज़िटिव आता है तब तय मानकों के हिसाब से उसका इलाज शुरू किया जाएगा।

आम लोगों के लिए क्या सुझाव

  1. जिन आम लोगों की लैब में जाँच के बाद पॉज़िटिव नतीजे आते हैं,
    उन्हें भी आगामों 14 दिनों तक अपने घरों में (क्वारंटाइन) रहना होगा।
    अगर किसी को बुखार, कफ, शरीर में दर्द या साँस लेने में तकलीफ़ जैसी कोई समस्या होती है तो उनकी जाँच होगी।
    जाँच में नतीजा पॉज़िटिव आने पर तय मानकों के अनुसार उनका इलाज कराया जाएगा।

क्या है तीसरा स्टेज
इन आदेशों को जारी करने के पीछे सबसे बड़ी वजह है हमारे देश में कोरोना वायरस का तीसरे स्टेज में पहुँचना। तीसरे स्टेज का सीधा मतलब है कम्यूनिटी ट्रांसमीशन, जिसके तहत सरकार ने तैयारियां बढ़ा दी हैं। कम्युनिटी ट्रांसमीशन तब होता है जब कोई व्यक्ति किसी ज्ञात संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए बिना या वायरस से संक्रमित देश की यात्रा किए बिना ही इसका शिकार हो जाता है।

क्या हैं फिलहाल के हालात
ऐसे में कोरोना वायरस से प्रभावित लोगों की संख्या का अनुमान भी लगा पाना खुद में चुनौती होगा। इसलिए सरकार किसी भी तरह का खतरा नहीं लेना चाह रही है। देश भर में अब तक कोरोना के लगभग 223 मरीज सामने आ चुके हैं और अब तक इस वायरस से कुल 4 लोगों की मौत भी हो चुकी है। लिहाज़ा सरकार, मंत्रालय और महकमों के बाद यह ज़िम्मेदारी आम जनता है कि हम पूरी सावधानी बरतें।

admin