कैब का किराया मांगने पर महिला सरेआम कपड़े उतारने लगी

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर तब बवाल बढ़ गया जब भरी भीड़ में एक महिला ने अपने कपड़े उतारने शुरू किये। ये बवाल कैब ड्राइवर को किराया देने को लेकर शुरू हुआ।

लोग खुद के काम में मशगूल थे तभी अचानक एक औरत के चीखने की आवाज़ आई लोग टैक्सी स्टैंड की तरफ़ भागे। एक महिला और टैक्सी ड्राइवर के बीच कहासुनी हो रही थी। पहले तो लोग समझे कि महिला की मदद करनी चाहिए, लेकिन फिर मामला और उलझ गया।

कैब ड्राइवर रमन ढकौली निवासी ने बताया कि शनिवार सुबह 10 बजे ढकोली से रेलवे स्टेशन जाने के लिए एक युवती ने कैब बुक की। ड्राइवर ने उसे रेलवे स्टेशन पहुँचाया और उससे किराये की मांग की। ड्राइवर का कहना है कि महिला ने गाड़ी से उतरते हुए कहा कि उसने किराया दे दिया है।

ड्राइवर ने किराए के 328 रुपए मांगे। महिला का कहना था कि उसने ऑनलाइन पेमेंट कर दिया है और अब उसे परेशान न किया जाए। ड्राइवर ने आस-पास खड़े लोगों को बुलाकर अपना मोबाइल दिखाते हुए कहा कि कोई भी उसका मोबाइल देखकर बता सकता है कि पैसे नहीं जमा किए गए।

महिला बौखलाई हुई अपने सारे कपड़े स्टेशन पर ही उतारने शुरू कर दिए। रेलवे पुलिस में खबर पहुंची महिला पुलिस कर्मी तत्काल वहां पहुँच कर सिचुएशन को कंट्रोल करने की जद्दोजहत में लग गईं। लेकिन महिला यात्री ने पुलिस पर भी हाथ उठा दिया तमाचा जड़ते हुए उनको भी गालियों से नवाज़ दिया।

यहीं से पुलिसवाले उस महिला को थाने ले आए और उससे पूछा अगर कोई कंप्लेंट है तो वो थाने में दर्ज़ करवा सकती है लेकिन महिला ने थाने में जो भी सामने आया, उस पर लात-घूंसे और थप्पड़ चलाना शुरू कर दिया। एक सब इंस्पेक्टर के गाल पर नाखून से खरोंच लिया और दूसरी सब इंस्पेक्टर की गर्दन दबोचकर उसे मारने की कोशिश की। उसके दाहिने हाथ पर इतनी ज़ोर से दांत काटा कि पुलिस वाली महिला के हाथ का मांस निकल गया।

थोड़ी देर में पुलिस समेत बाक़ी लोगों को अंदेशा हुआ कि कहीं महिला की मानसिक हालत तो ख़राब नहीं? इसके बाद चंडीगढ़ सेक्टर 6 के सिविल हॉस्पिटल में महिला का मेडिकल चेकअप कराया गया। महिला पर पुलिस ने सरकारी काम में बाधा डालने की एफआईआर दर्ज की है।

admin