कमलनाथ को तानाशाह बता कर अपना सिर मुंडवा रही हैं औरतें

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। सेवा में नियमित किए जाने की मांग को लेकर अतिथि शिक्षकों के लंबे समय से चल रहे धरने के दौरान एक गेस्ट महिला टीचर ने बुधवार को अपना सिर मुंडवा लिया। यह शिक्षिका पिछले 72 दिनों से अतिथि शिक्षकों के साथ नियमित किए जाने की मांग को लेकर धरने पर बैठी हैं।

मध्य प्रदेश के भोपाल में गेस्ट टीचर धरना दे रहे हैं। क्योंकि राज्य सरकार ने उन्हें नियमित करने का वादा किया था। सरकार बने एक साल के ऊपर हो गया, लेकिन अभी तक किसी गेस्ट टीचर को नियमित नहीं किया। इससे गेस्ट टीचर शाहीन खान ने सिर मुंडवा कर सारे बाल कांग्रेस नेता राहुल गांधी को भेज दिया।

अपना सिर मुंडवाने से पहले शाहीन ने कहा कि 72 दिनों के धरने के बाद भी राज्य सरकार ने हमारी मांगें नहीं मानी हैं और न ही हमसे बात की है। उन्होंने कहा कि कुछ अतिथि शिक्षक खराब वित्तीय हालत के चलते आत्महत्या कर चुके हैं।

एएनआई से बात करते हुए शाहीन ने कहा, “शिक्षकों के प्रति राज्य सरकार में कोई दया नहीं है और मुख्यमंत्री कमलनाथ एक तानाशाह की तरह व्यवहार कर रहे हैं। कमलनाथ सरकार का हमारी समस्याओं की तरफ ध्यान खींचने के लिए यह अंतिम उपाय था। हमारे कई दोस्त आत्महत्या कर चुके हैं।”

वहीं एक अन्य गेस्ट टीचर रूचि तिवारी ने बताया कि क्या हमने इस दिन के लिए कांग्रेस का चुना था? वह हमें बहन कहते हैं। फिर भी, वह हमसे मिलने तक नहीं आए। पिछले हफ्ते, कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आंदोलनकारी अतिथि शिक्षकों से कहा था कि अगर पार्टी घोषणा पत्र में सभी वादे पूरे नहीं किए गए तो वे उनकी ‘ढाल और तलवार’ बन जाएंगे।

उधर कमलनाथ सिंह के ऑफिशियल हैंडल से ट्वीट किया गया है और गेस्ट टीचर के सिर मुंडवाने की बात पर दुख ज़ाहिर किया है। उसी ट्वीट को रीट्वीट करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ सरकार पर तंज कसा है।

कमलनाथ सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा है, “केश नारी के लिये श्रृंगार व सम्मान का प्रतीक होते है और नारी यदि अपने हक़ की लड़ाई के लिये उसका ही त्याग कर दे तो उसके दुःख व पीड़ा का अन्दाज़ लगाया जा सकता है। अतिथि विद्वान बहनों द्वारा कराया गया मुंडन,दिल को झकझोरने वाला क़दम है। पूरा प्रदेश इस घटना से शर्मशार हुआ है।”

admin