कल इंदौर में अबतक की सबसे बड़ी संख्या में 248 केस आए,कुल नम्बर हुआ 846

नगर संवाददाता | इंदौर

चिंता न करें, क्योंकि… जो पॉजिटिव आए हैं वे पहले से ही क्वारंटाइन या अस्पताल में,शहर के पूरी तरह संक्रमण मुक्त होने के लिए बीमारी का सामने आना जरुरी

शहर महामारी की चपेट में अब घिरता जा रहा है। संक्रमित मरीज तेजी से बढ़ रहे हैं। गुरुवार को यह आंकड़ा 800 पार कर गया। शहर में पॉजिटिव की संख्या 846 हो गई है जबकि अभी तक 47 लोगों की मौत हो चुकी है। बुधवार रात एमजीएम और दिल्ली लैब की रिपोर्ट के अनुसार शहर में पॉजिटिव की संख्या 591 थी। गुरुवार सुबह सीएमएओ डॉ. प्रवीण जडिया ने स्पष्ट किया कि बुधवार रात तक 42 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए थे। इस तरह जिले में कोरोना पॉजिटिव की संख्या 586 थी। गुरुवार सुबह दिल्ली से मिली रिपोर्ट के बाद शहर में 248 पॉजिटिव और बढ़ गए। इस तरह पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 846 हो गई। उधर, दिल्ली भेजे गए सेम्पलों में से अभी करीब 400 सेम्पलों की रिपोर्ट आना बाकी है। दूसरी ओर एमजीएम मेडिकल कॉलेज से रोज डेढ़ सौ से दो सौ के बीच सेम्पल टेस्ट किए जा रहे हैं। इस लिहाज से आने वाले दिनों में पॉजिटिव का आंकड़ा एक हजार के करीब हो सकता है। अरबिंदो व सेंट्रल लैब को अनुमति मिल गई है। यहां भी अब रोज 600 सेम्पल टेस्ट होंगे। गुरुवार को भारत सरकार के केंद्रीय अध्ययन दल ने कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए किए जा रहे कार्यों की जानकारी ली और टीम की सराहना की। आईजी विवेक शर्मा ने बताया कि लॉकडाउन व कर्फ्यू का कड़ाई से पालन कराने के लिए सीसीटीवी व ड्रोन से मॉनिटरिंग की जा रही है।

क्वारेंटाइन से भागे 4 पॉजिटिव मुरैना बॉर्डर पर पकड़ाए : बुधवार को किंग्स गार्डन (क्वारेंटाइन हॉउस) से भागे पांच में से चार को पुलिस ने मुरैना बॉर्डर से पकड़ा। एक अभी भी फरार है। मूलत: ये पश्चिम बंगाल के हैं और यहां नौकरी करने आए थे। प्रशासन इस बात को लेकर चिंतित हैं कि उक्त अवधि में अगर ये और भी लोगों के संपर्क में आए तो संक्रमण फैल सकता है। इस बीच मयूर अस्पताल से भागे एक संक्रमित मरीज को पीथमपुर की रामरतन कॉलोनी से पकड़ लिया गया। उसे अरबिंदो अस्पताल रैफर किया है जबकि रामरतन कॉलोनी को सैनिटाइज किया गया।

इन योद्धाओं पर रखें भरोसा, जीतेगा इंदाैर…

इंदौर में स्वास्थ्य विभाग का अमला रात दिन जुटा हुआ है। मेडिकल किट की कमी, गलियों से पत्थर के डर के बावजूद ये अमला मजहबी भेदभाव से परे इंसानियत को समर्पित है। ऐसे ही योद्धाओं की सेना गुरुवार को रानीपुरा के झंडाचौक से अपने-अपने इलाके में जाने के पहले कामयाबी का निशान दिखाती हुई। लगभग हर इलाके में ऐसी ही टीमें सुबह से निकल जाती है। इसके अलावा पुलिस, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और शिक्षकों की भी सर्वे में मदद ली जा रही है। ऐसे सभी कोरोना योद्धाओं को सलाम। केंद्रीय टीम ने भी इनके ज़ज़्बे की सराहना की।

10 दिनों में सामान्य हो जाएंगे शहर के हालात : कलेक्टर

दस दिन में 30 लाख लोगों का सर्वे करेंगे: कलेक्टर मनीषसिंह ने कहा अब 6 से 7 लाख लोगों का घर-घर जाकर सर्वे हो चुका है। अगले तीन दिन में 7 लाख लोगों का और सर्वे करेंगे। कंटेनमेंट एरिया में शतप्रतिशत स्क्रीनिंग हो चुकी है। बफर जोन में भी सर्वे हो रहा है। ऐसे करीब 12 लाख लोगों का सर्वे हो जाएगा। वृहद सेंपलिंग और स्क्रीनिंग का ही नतीजा है कि यहां केस बढ़ते दिख रहे हैं। मुझे लगता है कि 7 से 10 दिन में स्थिति सामान्य हो जाएगी। क्योंकि आगामी दस दिनों में हम 30 लाख लोगों की स्क्रीनिंग पूरी कर चुके होंगे।

दो घंटे में क्लेम सेटल करें, वरना एफआईआर

कोरोना वायरस के मामले में क्लेम सेटल में देरी को लेकर गुरुवार को कलेक्टर मनीष सिंह ने मेडिक्लेम कंपनियों के प्रतिनिधियों को फटकार लगाई। कहा कि यदि दो घंटे में क्लेम सेटल नहीं किए तो कंपनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाएगी। उन्होंने कहा कि जब ऑनलाइन क्लेम सेटल हो सकता है तो फिर कंपनियां कर क्यों नहीं रही हैं। सेटलमेंट न होने से मरीजों की छुट्‌टी नहीं होती। अब यदि ऑनलाइन सेटल नहीं होते तो संबंधित कंपनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करेंगे।

admin