वैलेंटाइन डे बीतने के बाद भी शादी की ऐसी कहानी शायद ही आपने सुनी हो

विभव देव शुक्ला

हमारे आस-पास अक्सर ऐसी घटनाएँ होती हैं जो सुनने और समझने में अनूठी होती हैं। उनके बारे में सुन कर ही हमारे ज़ेहन में कई तरह के सवाल उठते हैं भले उनके जवाब तलाशना कितना भी मुश्किल क्यों न हो। और तो और बीते दिन वैलेंटाइन डे था इसलिए कहानियों की भरमार थी। ऐसी ही एक कहानी सामने आई कर्नाटक की जिसमें राजा-रानी नाम के घोड़े और घोड़ी की शादी करा दी गई।

राजा (घोड़ा) और रानी (घोड़ी)
कब्बन पार्क नाम की जगह पर पूरे परंपरागत तौर तरीकों से (नदास्वर्णम, थाविल) दोनों की शादी कराई गई। लोगों के लिए यह हैरानी वाली बात थी कि जिनकी शादी इतनी तैयारी और तौर-तरीकों से कराई गई वह घोड़ा और घोड़ी थी। कन्नड़ सामाजिक कार्यकर्ता और कन्नड़ वतल पार्टी के मुखिया वतल नागराज ने कई लोगों की मौजूदगी में दोनों की शादी कराई।
घोड़े का नाम राजा था और घोड़ी का नाम रानी। शादी करवाने के दौरान नागराज ने राजा को धोती और रानी को ताली (मंगल सूत्र) और धोती दी। नागराज अक्सर इस तरह की शादियाँ कराते हैं, पिछले साल उन्होंने शीप-जैकब (याकूब) की शादी कराई थी। यह शादी भी काफी लंबे समय तक लोगों के बीच चर्चा में थी।

सरकार की तरफ से होनी चाहिए मदद
उनका मानना है कि वैलेंटाइन के दिन का अपना महत्व है, जो लोग इस दिन का विरोध करते हैं उन्हें वाकई सोचने और समझने की ज़रूरत है। जो लोग इस दिन को मान कर एक-दूसरे से प्यार करते हैं या करना चाहते हैं उन्हें रोकने का कोई मतलब नहीं है।
इसके अलावा नागराज ने कर्नाटक राज्य और केंद्र सरकार से गुज़ारिश की। जो लोग एक-दूसरे से प्यार करते हैं और भविष्य में शादी करना चाहते हैं उन्हें सरकार की तरफ से 50 हज़ार से लेकर 1 लाख रुपए तक की मदद करनी चाहिए। कार्यक्रम के अंत में जो लोग शामिल हुए थे उनके बीच मिठाइयाँ बांटी गईं।

admin